समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Monday, September 27, 2010

अयोध्या में राम मंदिर और शतरंज की बिसात-व्यंग्य क्षणिकाऐं (ayodhya men ram mandir aur shataraj ki bisat-short hindi poem's)

राम के नाम की महिमा महान है,
जिन्होंने राजा राम को भजा
वह वज़ीर हो गये,
जिन्होंने बनवास और त्यागी रूप का किया बखान
वह भी बड़े फकीर हो गये,
जिन्होंने बेचा बीच बाज़ार नाम
वह भी अमीर हो गये,
मगर जिन्होंने भजा नाम दिल से
रहे उनके हमेशा अपने बनकर राम
मतलब निकालने वाले
क्या पहचानेंगे उनको
दौलत और शौहरत की छांह में
उनके ज़मीर सो गये।
------------------
अयोध्या में राम मंदिर
बनेगा या नहीं इस पर
बरसों तक बहस चली है,
हृदय की आस्था
बाहर दिखाने के भी फायदे हैं
बना दिया राम जन्मभूमि को
शतरंज की बिसात
प्यादे भी बन गये वज़ीर
ऐसी शानदार चाल चली है।
-----------
राम से भी बड़ा है राम का नाम
यह अब सभी को पता चला है,
दिल में न भी हो
पर बस यूं ही लेते रहे जो राम का नाम
उनके घर पर घी का चिराग जला है।
-----
राम का नाम लेते लेते
कई प्यादे भी वज़ीर हो गये,
बनवासी राम को भजता कौन
राजा राम की गाते गाते
राजाओं जैसे आज के फकीर हो गये।
----------

कवि लेखक एंव संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
http://dpkraj.blogspot.com
------------------------

दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका पर लिख गया यह पाठ मौलिक एवं अप्रकाशित है। इसके कहीं अन्य प्रकाश की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका
हिन्दी साहित्य,समाज,मनोरंजन,अयोध्या की रामजन्मभूमि,ayodhya men ram mandir,hindi literature,ayodhya mein ram mandir,ramlala,babri maszid,ayodhya mein ram, ayodhya men ram mandir,janmabhoomi,ayodhya men ram janmabhoomi,ayodhya men ram janambhoomi,ayodhya mein ramjanambhoomi,अयोध्या में रामजन्मभूमि

2 comments:

ओशो रजनीश said...

अच्छी पंक्तिया लिखी है ........

जाने काशी के बारे में और अपने विचार दे :-
काशी - हिन्दू तीर्थ या गहरी आस्था....

अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये

संगीता पुरी said...

अच्‍छी रचनाएं !!

यह रचनाएँ जरूर पढ़ें

Related Posts with Thumbnails

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

यह रचनाएँ जरूर पढ़ें

Related Posts with Thumbnails

विशिष्ट पत्रिकाएँ