समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Saturday, February 7, 2009

सभी लोग मिलकर नाचें और गायें-हास्य व्यंग्य कविता

आओ, देश में गरीबी मिटाने के लिये
सभी लोग मिलकर नाचें और गाये
हम कितने गंभीर हैं दुनियां को बतायें

आओ, देश की भुखमरी मिटाने के लिये
सभी लोग मिल नाचें और गायें
कितना दर्द हैं हमारे अंदर
पूरी दुनियां को बतायें

आओ, निराश्रितों को आश्रय देने के लिये
सभी लोग मिलकर नाचे और गायें
कितने दयालू हैं, सारी दुनियां को समझायें

आओ, देश की नारियों को सम्मान देने के लिये
सभी लोग मिलकर नाचें और गायें
अपने अंदर का स्वाभिमान दुनियां को दिखायें

आओ, पर्यावरण की रक्षा करने के लिये
सभी लोग मिलकर नाचें और गायें
अपनी फिक्र से दुनियां के अवगत करायें

याद रखें
सभी लोगों से आशय है कि
फिल्म अभिनेता, पर्दे के मसखरे और
प्रसिद्ध हस्तियां जिनकी
जमाना कद्र करता हो
वही आमंत्रित हैं, नाचने और गाने के लिये
बाकी केवल पर्दे के सामने बैठ जायें

....................................
दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका पर लिख गया यह पाठ मौलिक एवं अप्रकाशित है। इसके कहीं अन्य प्रकाश की अनुमति नहीं है।
कवि एंव संपादक-दीपक भारतदीप

अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका
लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया दीपक जी!!! बहुत बढिया व्यंग्य रचना है।वास्तव में आज यही सब तो हो रहा है।बहुत अच्छि लगी रचना।

यह रचनाएँ जरूर पढ़ें

Related Posts with Thumbnails

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

यह रचनाएँ जरूर पढ़ें

Related Posts with Thumbnails

विशिष्ट पत्रिकाएँ