समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Sunday, September 6, 2009

काटना पर कुछ बोना नहीं- हास्य व्यंग्य कविताएँ (katana aur bona-hasya vyangya kavita)

काटना है पर कुछ बोना नहीं है
पाना है हर शय, कुछ खोना नहीं है।
पूरी जिंदगी का मजा जल्दी लेने के आदी लोग
आज कर, अभी कर की सोच के साथ
पल में प्रलय से इतना डरे हैं
कि खतरे देख नहीं पाते
क्योंकि अपनी ही जिंदगी उनको
ढोना नहीं है।
....................
आज के जमाने में शैतान भी
सजकर सामने आयेगा।
मनोरंजन में नयेपन की
चाहत में भाग रहे लोगों को
फरिश्ता नजर आयेगा।
इंसान की बढ़ती चाहत
अक्ल पर डाल देती है पर्दा
पीछे का सच किसे नहीं पता चल पायेगा।
..........................
दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका पर लिख गया यह पाठ मौलिक एवं अप्रकाशित है। इसके कहीं अन्य प्रकाश की अनुमति नहीं है।
कवि एंव संपादक-दीपक भारतदीप
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका
लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

बहुत सुन्दर रचना.....बहुत-बहुत बधाई...

यह रचनाएँ जरूर पढ़ें

Related Posts with Thumbnails

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

यह रचनाएँ जरूर पढ़ें

Related Posts with Thumbnails

विशिष्ट पत्रिकाएँ